BAMBIHA BOLE | Amrit Maan | Sidhu Moose Wala | Lyrics in Hindi PDF Download

गीत – बंबीहा बोले
गायक व गीतकार – अमृत मान / सिद्धू मूसे वाला
संगीतकार – इक्की (इक्कविन्दर सिंह)

Bambiha-Bole-Song-Lyrics-In-Hindi
Bambiha-Bole-Song-Lyrics-In-Hindi

हां जी अमृत मान जी
सानू बंबिहा बोले गाने दे विच
सुनन नु की कुज मिल सकदा?

देखो जी असी तां इक गाना ही लिखया
पर हे कइयाँ दे वजना लफेडे वंगु है

हो जद वी बोले जनता मुहँ नूं
ला लैंदी आ ताले नी
चाल तेंदूये वरगी
कुड़ते गीजा कॉटन वाले नी

कित्ते हड वैरी दे पोले
अधी रात पुलिस जी टोहले
हो गया मर्डर तूत दे ओले
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

दुनिया वेख वेख के डरदी
जट दी मुछ डबल्यू वरगी
चाहे गर्मी , चाहे सरदी
तडके उठ के चबदे छोले
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

हो नूर चेहरे ते मिले मडंगा
बॉम्बे आले एक्टर नाल
अज वि गबरु पैली वोन्धा
हिंदुस्तान ट्रैक्टर नाल
जट्ट ते चढ गी अडब जवानी
सुना दा मेजर राजस्थानी
अज वि पहला धरम किसानी
तां ही रब नी रखदा ओले
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

सरकरी नोटिस वरगा रूतबा
बलिये जट्ट दे साइना दा
लंडियां पूछा वाला रखेया
जोडा डाबर माईनां दा
नाम तारे वांगु चमके
जिते खड़ जांदा आ जम के
वैरी दी लत डिग्गी चों लमके
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

हो आज वी अपने नां तो मुरे
रखेया पिंड दा नाम कुड़े
किसे किसे नाल सांझा करदा
आथण आला जाम कूड़े
लौंदा नित निशाने टीसी
ना अफीम चिट्टा ना शीशी
तिने यार बनाई फिरदा
एस एच ओ , एसएसपी, डीसी
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

फाइनली , सिधु मूसे वाला!

हो मूसे पिंड चोन रेंज ते जुड़ियाँ
दूर दूर तक तारां नी
जिहनु पट दा जड़ा चों पट दा
ताइयों कहन्दे 59 11 नी

चोबर जाफी वजदा गुट्ट दा
पीबी 31 विचो उठ दा
नी कोइ तोड़ नी जट दे पुत्त दा
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले हाये हाए

जदों दी कलम चोबर ने चक्की
रगडे अख जिना ते रखी
कल्ला ही फिरदा सब नू धक्की
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले है ये

हो डब्ब 45 गल तक भरया
हिका दिंदा पाड़ कुड़े
वुफरां उते मिरज़ा गौंदी
सुन्न जसविंदर बराड़ कुड़े

“कहन्दे माडे नूँ दबकौना काहदा,
जो पहलां ही घाबरदा
औंदा फेर स्वाद जे अग्ग्यों
होवे पुत्त बराबर दा”

हो जट्ट दे टिब्बेयाँ दे विच डेरे
लई फिरदा मौत नाल फेरे
हो थापी मार बेगाने घेरे
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले है ये

हो दूनिया लांदी फिरदी शिफां
जट्ट दा कद जो बुर्ज खलीफा
नी ओह कीथे गोल्दा बीफां
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले हाए हाये

सद्दाम हुसैन दे बयाना वरगे
गबरू लिखदा गाने नी
हो मूसेयों लैके गोनेआने ताईं
जानदे ने सब थाने नी
नेचर मुड्ढ तों रेहा कलेसी
रूसी वेपन गबरू देसी
कल नु शहर बठिंडे पेशी नी
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले है ये

सी जाँदा बड़े चिरां तों टाली
पूरे शहर हो गया खाली
एतकी बोलुगी 20 साली
नी बंबीहा बोले
नी बंबीहा बोले।

DOWNLOAD PDF HERE

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *